ताज़ा ख़बर
BREAKING: राजधानी में बोरी में बंधी मिली लाश, इलाके में सनसनी, पुलिस अधिकारी मौके परचर्च के बाहर युवक ने किया चाकू से हमला, 3 लोंगो की मौत, पुलिस ने आरोपी को मार गिरायाBREAKING: भारी पुलिस बल के बीच निकल रही हत्या के आरोपी बादल की शवयात्रा, तनाव होने की आशंका पर पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी मौजूदमुंगेर में मूर्ति विसर्जन-गोलीकांड को लेकर बवाल, आक्रोशित भीड़ ने थाने को किया आग के हवालेRAIPUR: बड़ी बहन के घर भिलाई से लौट रहे अधेड़ की ओवरब्रिज के नीचे रेलवे ट्रैक पर मिली थी लाश, डेढ़ साल बाद सुपर PM रिपोर्ट में हत्या का हुआ खुलासा, FIR दर्जछत्तीसगढ़ ब्रेकिंग : उत्कृष्ट कार्य करने वाले 7 पुलिस अधिकारियों को शौर्य पदक की घोषणा, CM हाउस में आयोजित सम्मान समारोह में दिया जाएगा पदकनहीं रहे गोंगपा सुप्रीमो हीरासिंह मरकाम, 78 साल की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा, प्रदेश के आदिवासी नेतृत्व को बड़ी क्षतिRAIPUR BREAKING: राजधानी के 3 कारोबारियों के घर-गोडाउन पर पुलिस ने मारा छापा, नकली रेड लेबल टी सहित शैम्पू-सर्फ एक्सेल जब्तCORONA BREAKING : प्रदेश में आज 1929 नए कोरोना मरीजों की पहचान, 1271 मरीज़ हुए स्वस्थ, देखें मेडिकल बुलेटिनBIG BREAKING : JCCJ विधायक देवव्रत सिंह की अमित जोगी से अपील, कहा- इस पार्टी को मजबूती से नहीं चला सकते, कांग्रेस में जाना ही एक विकल्प

जानिए तिब्बत पर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को क्यों डबल टेंशन, भारत से सटी सीमा को लेकर यह दिया आदेश

Hitesh dewanganAugust 30, 20201min

जानिए तिब्बत पर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को क्यों डबल टेंशन, भारत से सटी सीमा को लेकर यह दिया आदेश

 

 


 

बीजिंग। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इन दिनों तिब्बत को लेकर काफी परेशान हैं। तमाम कोशिशों के बावजूद तिब्बतियों का मन बदलने में नाकाम रहे चीन को एक तरफ अलगाववाद की टेंशन है तो दूसरी तरफ भारत के साथ लगती सीमा पर मुंह की खाने के बाद सुरक्षा को लेकर भी नींद उड़ गई है। तिब्बत को लेकर पांच साल बाद हुई बड़ी बैठक में शी चिनपिंग के मुंह से निकले एक-एक शब्द में चिंता और बेचैनी थी।

 

जून में भारत के साथ पूर्वी लद्दाख में खूनी संघर्ष के बाद हुई ‘तिबब्त पॉलिसी बॉडी’ की हाई लेवल मीटिंग में चीन के राष्ट्रपति ने भारत के साथ लगती सीमा की सुरक्षा सुनिश्चित करने पर जोर दिया। शी जिनपिंग ने कहा कि सीमा की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता में होनी चाहिए। शी ने पार्टी, सरकार और सैन्य नेतृत्व को सीमा सुरक्षा को मजबूत करने और सुरक्षा सुनिश्चत करने को कहा। साथ ही भारत के साथ लगती सीमा वाले क्षेत्र में सुरक्षा, शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने का आदेश दिया।

 

भारत-चीन के बीच सीमा का अधिकांश हिस्सा तिब्बत से ही जुड़ा हुआ है, जिस पर 1950 में चीन ने कब्जा जमा लिया था। इसी सीमा पर पूर्वी लद्दाख में जून में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई, जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए, लेकिन चीन ने अपने हताहत सैनिकों की संख्या का खुलासा अभी तक नहीं किया है। इसके बाद से दोनों देशों में कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर कई दौर की बातचीत हुई है लेकिन समाधान नहीं हो सका है।

 

शी तिब्बत पर आयोजित सातवें केंद्रीय सेमिनार में बोल रहे थे जो शनिवार को बीजिंग में संपन्न हुआ। यह तिब्बत पॉलिसी पर देश का सबसे अहम मंच है जिसपर 2015 के बाद पहली बार चर्चा हुई है। शिन्हुआ की तरफ बाद में जारी एक रिपोर्ट में सीमा सुरक्षा पर शी के बयानों को शामिल नहीं किया गया। शीन ने लोगों को जागरूक करने का आदेश देते हुए कहा कि क्षेत्र में स्थिरता बनाए रखने के लिए अलगाववाद के खिलाफ अभेद्य किले का निर्माण करें। साथ ही तिब्बती बौद्ध धर्म का ‘सिनीकरण’ करने का आह्वान किया है।

 

सिनीकरण का अर्थ है गैर चीनी समुदायों को चीनी संस्कृति के अधीन लाना और इसके बाद समाजवाद की अवधारणा के साथ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की राजनीतिक व्यवस्था उस पर लागू करना। चीन सालों से यहां भारत में निर्वासित बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा के प्रभाव को कम करने की कोशिश कर रहा है। इस बीच अमेरिका ने भी तिब्बत के मुद्दे को जोर-शोर से उठाना शुरू कर दिया है।

Related Articles


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories