ताज़ा ख़बर
BREAKING: कांग्रेस नेता ने जहर खाकर किया आत्महत्या का प्रयास, गंभीर हालत में आईसीयू में भर्तीबड़ी खबर : बीजेपी सांसद का विवादित बयान आया सामने, इस एक्ट्रेस को बताया सेक्स वर्करBREAKING : पूर्व सीएम अजीत जोगी की पत्नी रेणु जोगी का दायां हाथ फ्रैक्चर, अमित जोगी ने सोशल मीडिया पर दी जानकारीBREAKING : नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, सुरक्षाबलों ने डिफ्यूज किया 10 किलो शक्तिशाली बमBREAKING : छत्तीसगढ़ी गाना “दबा बल्लू” पर अश्लीलता के आरोप, गाने और बजाने वालेें पर पांच हजार से अधिक जुर्मानासीएम भूपेश की अध्यक्षता में आज सर्किट हाउस में यूनिफाइड कमांड की बैठक, गृहमंत्री समेत DGP, CRPF डीजी होंगे शामिलकेंद्र सरकार ने जारी की कोरोना की नई गाइडलाइन, सिनेमाघरों में 50% से ज्यादा दर्शकों को मिली अनुमति, सबके लिए खुलेंगे स्विमिंग पूलCM भूपेश की पहल: अब बिलासपुर में लैंड कर सकेंगे 72 सीटर विमान, सिविल एविएशन विभाग ने जारी किया 3 सी लायसेंसBIG BREAKING : सरकारी सेवा में आये इन कर्मचारियों को नहीं मिलेगा पेंशन का लाभ, राज्य सरकार ने पेंशन स्कीम को किया बंदखुले में नहाकर राखी सावंत ने क्रॉस की सारी हदें, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

पीपीयार्ड भिलाई में कार्यरत इंजीनियरों ने मालगाड़ियों के ब्रेक वैन में लगने वाले ब्रेक सिलेंडर की ओवरहालिंग एवं टेस्टिंग बैंच बनाई

Ankit bisenJuly 22, 20201min

 

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल का आरओएच डिपों पीपी यार्ड, भिलाई भारतीय रेलवे के सबसे बड़े अनुरक्षण डिपों में से एक है। यहाँ औसतन 13 से 15 रेक प्रतिदिन परीक्षण एवं मरम्मत कर ठीक किये जाते है। रायपुर रेल मंडल के वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर (समन्वय) एस के सेनापति एवं सीनियर डीएमई पीपीयार्ड भिलाई के दिशा निर्देशन में पीपीयार्ड में कार्यरत बी. जयचंद्रा जूनियर इंजीनियर ने मालगाड़ियों के ब्रेक वैन (BVZI) में लगने वाले ब्रेक सिलेंडर की ओवरहालिंग टेस्टिंग बैंच बनाई है। इस टेस्टिंग बैंच की सहायता से बोगी माउंटेंड ब्रेक सिलेंडर जो कि ब्रेकवेन (बी वी ज़ेड आई) में लगाया जाता है।

उसकी ओवरहालिंग एवं टेस्टिंग बैंच पीपीयार्ड में उपलब्ध साधन संसाधनों द्वारा निर्मित की गई है।पहले इन सिलेंडरों में समस्या आने पर इन्हें बदलकर नए सिलेंडर लगाए जाते थे। अब नए नवाचार से प्रति ब्रेक सिलेंडर पर लगभग 6000 की बचत होगी। ब्रेकयान की मरम्मत के दौरान प्रतिमाह लगभग औसतन 8 से 10 बोगी माउंटेंड ब्रेक सिलेंडर नए लगाने होते थे। अब इन्हें पीपीयार्ड में ही (आरडीएसओ ) रिसर्च डिजाइन स्टैंडर्ड ऑर्गेनाइजेशन मानकों के अनुसार पुनः उपयोग में लेने हेतु 60 से 90 मिनिट में तैयार किया जा रहा है। जो संरक्षा की दृष्टि के साथ रेल राजस्व बचत के लिए भी बेहतर है।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories