ताज़ा ख़बर
बड़ी खबर : अब अपराधियों की नाक में दम करेंगे ट्रांसजेंडर, राज्‍य पुलिस में होगी सीधी बहालीभाजपा प्रदेश अध्यक्ष का कांकेर दौरा 18 को, तैयारियों को लेकर भाजपा ने ली बैठकबड़ी खबर : 5वीं से 8वीं तक की कक्षाओं के लिए 27 जनवरी से खुलेंगे स्कूल, शिक्षा मंत्री ने दी जानकारीBREAKING : बीजापुर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, मुठभेड़ में 8 लाख के इनामी नक्सली को किया ढेरRAIPUR BREAKING : राजधानी में फिर हुई चाकूबाजी, घायल युवक घटनास्थल से हुआ गायब, तलाश में जुटी पुलिसखेल महोत्सव के दूसरे दिन उमड़ा लोगों का जन सैलाब, आज शामिल होंगे विधायक और कलेक्टरपखांजूर : क्षेत्र में शुरू हुई वैक्सीनेशन की प्रक्रिया, पहले चरण में 300 सौ लोगों को लगा टीकामुख्यमंत्री भूपेश बघेल का महासमुंद दौरा कल, साहू समाज के कार्यक्रम में होंगे शामिलपुलिस विभाग में अटकी भर्ती प्रक्रिया को अभ्यर्थियों ने खोला मोर्चा, मांगें पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन की दी चेतावनीBREAKING : जिले में पदस्थ पांच ASI का ट्रांसफर, एसपी ने जारी किया आदेश, देखें सूची

राजनांदगांव: जिला प्रशासन में अफसरशाही हावी, आमजनों और मीडिया कर्मियों के फोन रिसीव नहीं करते अधिकारी

Tcp24 newsJune 8, 20201min

राजनांदगांव, जितेंद्र जैन जीतू। जिला प्रशासन में महत्व पूर्ण पदों पर जिम्मेदारी सम्हाल रहे जिले के अधिकारियों की फोन नहीं उठाने की बीमारी ने अब महामारी का रूप ले लिया है। राजनांदगांव के एस डी एम,जिले के खनिज अधिकारी, आबकारी विभाग के ऐ सी,खाध विभाग के फूड आफिसर, पशु चिकित्सा विभाग के प्रमुख, जिला शिक्षा अधिकारी सहित बहुत से विभागों के प्रमुख अधिकारी लोगों का फोन रिसीव नहीं करते जिसके चलते आम जनों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं।

जिले में इस परम्परा की शुरूआत जिले के पूर्व कलेक्टर जेपी मौर्य जी के आने के बाद शुरू हुई थी। वो खुद आम जनता और पत्रकार बन्धुओं का फोन नहीं उठाते थे। जिसका अनुशरण उनके मातहत अधिकारी कर्मचारियों ने भी करना शुरू कर दिया। फोन नहीं उठाने की वजह पूछने पर वो कहते हैं कि काम की व्यस्तता के चलते हम लोगों का फोन नहीं उठा पाते हैं।

जिले के मुखिया और अन्य अधिकारियों के इस तरह के जवाब से जनता ये सोचने पर मजबूर हो जाती हैं कि क्या पहले वाले कलेक्टर महोदय अपने दफ्तर में खाली बैठा करते थे क्या? या पहले वाले एस डी एम साहेब के पास बिल्कुल भी काम नहीं रहता था क्या…? क्या वो आफिस में खाली कुर्सी तोड़ते बैठे रहते थे क्या?।

जिला मुख्यालय में अफसरशाही अभी भी खत्म नहीं
वर्तमान कलेक्टर टीके वर्मा जो कि बेहद सरल और मिलनसार अधिकारी के रूप में जाने जाते हैं। कलेक्टर वर्मा जी व्यस्तता के बावजूद भी जिले की जनता और सभी पत्रकार बन्धुओं का फोन रिसीव करते हैं।और व्यस्त रहने की स्थिति में वो बाद में सम्बंधित व्यक्ति को काल बेक करके उनसे बात करते हैं।

लेकिन उनके सम्बंधित अधिकारियों की कार्य शैली में अभी भी कोई बदलाब नहीं आया है। अभी भी कोई अधिकारी फोन रिसीव नहीं करते।प्रशासन को चाहिये कि ऐसे अधिकारियों को जो महत्वपूर्ण पदों पर बैठे कर आमजनता और मीडिया को नजर अंदाज कर रहे हैं।उन्हें तत्काल हटाकर अच्छे अधिकारियों को वहाँ कार्य करने का मौका दे। जिससे आम जनमानस के बीच प्रशासन की छवि अच्छी होगी।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories